देश धर्म

कोलकाता में लगी हिन्दू पंचायत, उमड़ा जान सैलाब | स्वामी आनन्द स्वरूप बोले- भारत बनेगा हिन्दू राष्ट्र

बंगाल में परिवर्तन की बयार बह रही है, भारत बनेगा हिन्दू राष्ट्र -स्वामी आनन्द स्वरूप

पश्चिम बंगाल को कश्मीर बनने से बचाने हेतु सभी आगे आएँ -सुशील पण्डित

सुभाष चन्द्र बोस की धरती से निकली क्रान्ति राष्ट्र को एकता के सूत्र में बांधेगी -राम महेश मिश्र

हिन्दू पंचायत में विधायकों समेत अनेक जनप्रतिनिधियों ने भी की भागीदारी

कोलकाता, 8 जनवरी। पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता के तपन थियेटर-निवा आर्ट स्थित सभागार में हिन्दू पंचायत आज सम्पन्न हो गयी। शंकराचार्य परिषद व भाग्योदय फाउण्डेशन के संयुक्त तत्वावधान में आहूत हिन्दू पंचायत में विधायकों समेत अनेक जनप्रतिनिधियों ने भी भागीदारी की। ‘‘हिन्दू रिपब्लिक आॅफ हिन्दुस्थान के लिए हिन्दू पंचायत’’ शीर्षक से आयोजित इन कार्यक्रमों के जरिए भारत की सनातन संस्कृति की जड़ों से हर भारतीय को जोड़ने का अभियान छेड़ा गया है। कोलकाता के हर हिस्से सहित बंगाल के अनेक जिलों से आए हिन्दू पंचों ने शंकराचार्य परिषद की इस पहल को अद्वितीय बताया तथा इस महाभियान से जुड़ने की प्रतिबद्धता जताई। इस मौके पर इस्लामिक विधारधारा को त्यागकर सनातन हिन्दू धर्म अपनाने वाले दो दर्जन से अधिक स्त्री-पुरुषों का नागरिक अभिनन्दन भी किया गया
पंचायत सभा की अध्यक्षता करते हुए शंकराचार्य परिषद के अध्यक्ष श्री स्वामी आनन्द स्वरूप ने वर्तमान समय को बड़ा परिवर्तनकारी बताते हुए कहा कि बंगाल से बही बदलाव की बयार पूरे देश को प्रभावित करेगी और सत्य सनातन संस्कृति का परचम सम्पूर्ण भारतवर्ष में फहराएगा। उन्होंने भारत सहित विश्व भर में सुख-शान्ति की स्थापना के लिए हिन्दुस्थान को हिन्दू राष्ट्र बनाना न केवल जरूरी बताया, बल्कि उसे अपरिहार्य कहा। उन्होंने कहा कि यह ईश्वर इच्छा है और यह होकर ही रहेगा। स्वामी आनन्द स्वरूप ने स्वाधीनता आन्दोलन की भाँति एकजुटता दिखाते हुए भारत को सनातन राष्ट्र बनाने के लिए एक आन्दोलन छेड़ने का आह्वान सनातन समाज से किया। उन्होंने कहा कि यह कार्य तभी हो सकता है जब हिन्दू समाज जाति-पाँति के स्वयं के बुने जाल को तोड़कर बाहर निकले और पूरा सनातनी समाज एकजुट हो जाए। उन्होंने शंकराचार्य परिषद के ‘जाति छोड़ो-हिन्दू जोड़ो’ अभियान की भी चर्चा की और बताया कि बड़े पैमाने पर हिन्दू समाज एकजुट हो रहा है तथा धर्मांतरण कर अन्य सम्प्रदायों में चले गए लोग हिन्दू धर्म में पुनः वापस आ रहे हैं। इस अवसर पर समूचा सभागार ‘हमारा राष्ट्र-हिन्दू राष्ट्र’ के उद्घोषों से गूंज उठा।
हिन्दू पंचायत के मुख्य वक्ता कश्मीर मामलों के विशेषज्ञ श्री सुशील पण्डित ने जनता द्वारा चुनी हुई लोकतांत्रिक सरकार के संरक्षण में साल 1990 में कश्मीर पर आए भीषण संकट का आँखों देखा हाल सुनाया और कहा कि पश्चिम बंगाल में भी आज वैसी ही स्थितियों के दर्शन हो रहे हैं, जो 1990 के पहले कश्मीर की थीं। उन्होंने पश्चिम बंगाल की जनता को बिना कोई देर किए चेत जाने का आह्वान किया और निवेदन किया कि बंगाल को कश्मीर बनने से प्रयासपूर्वक बचा लें। इसके लिए उन्होंने समग्र हिन्दू एकता को बेहद जरूरी बताया। श्री सुशील पण्डित ने वर्तमान राष्ट्रीय राजनैतिक परिदृश्य पर खासी चर्चा की और कहा कि दुनिया के अनेक देशों ने इस्लामी मानसिकता को समझकर जरूरी सावधानियाँ बरतना शुरू कर दिया है और आतंकी सोच पर सख्ती से प्रहार करना आरम्भ कर दिया है। भारत को भी अब सारे आतंकी मंसूबों को ध्वस्त करने के लिए हिन्दुस्थान को हिन्दू राष्ट्र बनाने की ओर बढ़ना चाहिए।
कार्यक्रम का मंचीय संयोजन करते हुए नयी दिल्ली स्थित भाग्योदय फाउण्डेशन के अध्यक्ष आचार्य राम महेश मिश्र ने कहा कि कभी अखण्ड भारत को एकता के धागे में आबद्ध कर देने वाले बंकिम चन्द्र चटर्जी के ‘वन्देमातरम्’ की पवित्र धरती से उठी यह आध्यात्मिक व सामाजिक क्रान्ति सम्पूर्ण भारतवर्ष को निःसन्देह एकता के सूत्र में बांधने में सफल होगी। उन्होंने बंगाल के अमर सुपुत्र नेताजी सुभाष चन्द्र बोस को नमन करते हुए कहा कि आज पुनः जरूरत आन पड़ी है कि भारत सहित दुनिया के विभिन्न देशों से अनेकानेक सांस्कृतिक राजदूत निकलकर सम्पूर्ण विश्व को सत्य सनातन संस्कृति की कल्याणकारी विचारधारा से जोड़कर सुख एवं शान्ति से भरी ऐसी दुनिया के निर्माण के लिए सन्नद्ध हों, जिसमें मानव बिना किसी भय व आतंक के जीवनयापन कर सके तथा मानवता के विकास में अपनी भूमिका निभा सके।
कृष्णागंज (नदिया) के विधायक श्री आशीष कुमार विश्वास ने पश्चिम बंगाल की जनता को और अधिक जागरूक करने की जरूरत बतायी और कहा कि सन्तोष की बात हैं कि बंगाल की जनता अब जाग उठी है। उन्होंने इस दिशा में और अधिक तेजी से काम करने पर बल दिया। शंकराचार्य परिषद के पश्चिम बंगाल प्रदेश संयोजक श्री नीलकण्ठ लोध द्वारा धन्यवाद ज्ञापन के साथ हिन्दू पंचायत का समापन हुआ। इसके पूर्व शंकराचार्य परिषद बंगाल के कार्यकारी अध्यक्ष श्री कमला कान्त शास्त्री ने अतिथियों एवं आगंतुकों का स्वागत किया। कार्यक्रम में शंकराचार्य परिषद के ट्रस्टी श्री नरेन्द्र खड़का, शंकराचार्य परिषद के प्रदेश अध्यक्ष श्री राज किशोर यादव, श्री माणिक सरकार, राजकुमार किशोर, एडवोकेट परिजात चन्द्र, डाॅ. अरिंदम बनर्जी, देवदत्त माजी, सौमिक डे सरकार, श्री ऊँ प्रकाश पाण्डेय, श्यामलाल भगत, दिबाकर पाल, पुनीत कालरा तथा भाग्योदय फाउण्डेशन प्रतिनिधि वैभव, बालकृष्ण शर्मा, ललिता पाण्डेय, एम.के शुक्ल, स्वस्तिक बनर्जी, नंदिता बनर्जी आदि उपस्थित रहे।

Related posts

क्या है अहोई अष्टमी व्रत की सही विधि, क्या करें उपाय

dnewsnetwork

देवी अपराजिता और दशहरा

dnewsnetwork

लोधा पुलिस ने चेकिंग की कार्यवाही में चोरी की बाइक और कैंटर बरामद, चार युवक गिरफ्तार

dnewsnetwork