धर्म

देवउठनी एकादशी 2020:कब है देवउठनी एकादशी, जानिये इस दिन से शुरू हो जाएगे शुभ कार्य

Dev Uthani Ekadashi 2020: कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को देवउठनी एकादशी कहा जाता है. इस बार देवउठनी एकादशी बुधवार, 25 नवंबर को है. हिंदू पंचांग के अनुसार एक साल में कुल 24 एकादशी पड़ती हैं, जबकि एक माह में 2 एकादशी तिथियां होती हैं. कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को देवउठनी एकादशी कहते हैं. मान्यताओं के अनुसार, भगवान विष्णु आषाढ़ शुक्ल एकादशी को चार माह के लिए सो जाते हैं और कार्तिक शुक्ल एकादशी को जागते हैं. देवउठनी एकादशी के दिन चतुर्मास का अंत हो जाता है और शादी-विवाह के काज शुरू हो जाते हैं.देवउठनी एकादशी से शुरू हो जाएंगे कार्य।

कार्तिक मास की एकादशी को देवउठनी एकादशी मनाई जाती है। इस दिन निंद्रा से श्रीहरि जागते हैं। इसलिए इसे देवउठनी एकादशी कहते हैं। इस एकादशी से शादियों के साए शुरू हो जाते हैं। इस साल देवउठनी एकादशी 25 नवंबर, बुधवार को हो है। 25 तारीख को एकादशी तिथि दोपहर 02:42 बजे से शुरू होगी और नवंबर 26, 2020 को 05:10 बजे तक रहेगी। दरअसल आषाढ़ शुक्ल एकादशी के दिन देव सो जाते हैं और फिर कार्तिक मास की एकादशी को देवउठनी एकादशी के दिन जागते हैं

🌸देव के सोने के बाद से विवाह आदि बंद हो जाते हैं। अब देवउठनी एकादशी के दिन से शादियां फिर से शुरू होती हैं। इस दिन भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी की पूजा की जाती है। विभिन्न मौसमी फलों का उन्हें भोग लगाते हैं। इस दिन तुलसी विवाह भी कराए जाते हैं। शादियों के मुहूर्त जहां 2020 में नवंबर और दिसंबर में बहुत कम हैं, वहीं अगले साल 2021 में शादियों के मुहूर्त गुरु और शुक्र के अस्त होने के कारण बहुत कम हैं। दरअसल 17 जनवरी से 15 फरवीर के बीच देव गुरु अस्त हो रहे हैं। इसलिए इस समय में विवाह का कोई शुभ मुर्हत नहीं है। 11 दिसंबर के बाद सीधे अप्रैल 2021 में ही विवाह मुहूर्त हैं

🌺इस साल 2020 के अंत महीनों के विवाह शुभ मुहूर्त
*🌻25नवम्बर,बुध कार्तिक शु.एकादशी उ.भा.नक्षत्र
*🌻27 नवंबर, शुक्र कार्तिक शु. द्वादशी अश्विनी नक्षत्र
*🌻29 नवंबर, रवि कार्तिक शु. चतुर्दशी रोहिणी नक्षत्र
*🌻30 नवंबर, सोम कार्तिक पूर्णिमा रोहिणी नक्षत्र
*🌻1 दिसंबर, मंगल मार्गशीर्ष कृ. प्रतिपदा रोहिणी नक्षत्र
*🌻7 दिसंबर, सोम मार्गशीर्ष कृ. सप्तमी मघा नक्षत्र
*🌻9 दिसंबर, बुध मार्गशीर्ष कृ. नवमी हस्त नक्षत्र
*🌻10 दिसंबर, गुरु मार्गशीर्ष कृ. दशमी चित्रा नक्षत्र
*🌻11 दिसंबर, शुक्र मार्गशीर्ष कृ. एकादशी चित्रा नक्षत्र

🌞प्रसिद्ध गुरुदेव हृदय रंजन शर्मा अध्यक्ष श्री गुरु ज्योतिष शोध संस्थान गुरु रत्न भंडार पुरानी कोतवाली सर्राफा बाजार अलीगढ़ यूपी व्हाट्सएप नंबर-9756402981,7500048250

Related posts

क्या है अहोई अष्टमी व्रत की सही विधि, क्या करें उपाय

dnewsnetwork

Kaal Bhairav Jayanti 2020: काल भैरव जयंती आज, जानिए कब से शुरू होगी अष्टमी तिथि

dnewsnetwork

इस बार नवरात्रि के 9 दिन में कैसे लगाए भोग और कैसे करें पूजा -ज्योतिषाचार्य हृदय रंजन शर्मा

dnewsnetwork