धर्म

देवी अपराजिता और दशहरा

विजयदशमी (दशहरा) विशेष 25अक्टूबर 2020 दिन रविवार के विषय में विस्तृत जानकारी

♦दशहरा शक्ति पूजन का दिन है, प्राचीन शास्त्रीयपरंपरा के अनुरूप आज तक क्षत्रिय-क्षत्रपों के यहां शक्ति के पूजन के रूप में अस्त्र-शस्त्रोंका अर्चन-पूजन होता है। सभी कार्यों में सिद्धिप्रदान करने वाला दशहरा पर्व है, जो सभी मनोवांछित फल प्रदान करता है

♦आश्विन मास के शुक्ल पक्ष में दशमी तिथि को ‘विजया’ कहते हैं, जो सभी कार्यों में सिद्धि प्रदान करती है। अत: इस दिन शुरू किया गया कोई भी कार्य निश्चित ही सिद्धि को प्रदान करने वाला है। सांसारिक परेशानियां दूर करने के लिए इस दिन किए गए प्रयोग कभी असफल नहीं होते, न किसी तरह की हानि होती है

♦विजय दशमी पर यात्रा अत्यंत श्रेयस्कर होती है। छोटी ही सही लेक‌‌िन इस द‌िन यात्रा अवश्यकरें। शमी पेड़ का पूजन कर उसके पत्ते त‌िजोरी में रखने से कभी धन की कमी नहीं होती

♦दशहरे के द‌िन घट स्थापना वाला कलश कुछ समय के लिए स‌िर पर रखने से भगवती देवी का आशीष प्राप्त होता है

♦वैभव, संपन्नता और सौभाग्य के ल‌िए स्वच्छ कपड़े को पानी में भ‌िगोकर अच्छे से निचोड़ कर मां के चरण पोछें फिर उस वस्त्र को अपने घर अथवादुकान की त‌िजोरी में रखें

♦धन का अभाव सदा के लिए समाप्त करने के लिए दस वर्ष से छोटी उम्र की कन्या को उसकी प्रिय वस्तु भेंट करें। फिर उसके हाथ से कुछ पैसे अथवा रूपए घर अथवा दुकान की त‌िजोरी में रखवाएं

♦मंदिर जाकर मां दुर्गा के चरणों में लगे सिंदूर का टीका करें, सुहागन महिलाएं अपनी मांगभी भरें। चुटकी भर स‌िंदूर घर लाकर रखें वैभव, सम्पन्नता और समृद्ध‌ि बनी रहती है

♦माना जाता है की नीलकंठ पक्षी का दर्शन दशहरे के द‌िन होने से पूरा साल खुशियां और तरक्की अंग-संग रहती हैं

♦रावण दाह के उपरांत जली हुई लकड़ी के टुकड़े को घर लाकर सहज कर रखें, इससे ऊपरी बाधाएं, चोरी की संभावना और नजर दोष से बचाव होता है

💥देवी अपराजिता और दशहरा

🌻अपराजिता का अर्थ है जो कभी पराजित नहीं होता।देवी अपराजिता के सम्बन्ध में कुछ महत्वपूर्ण तथ्य भी जानने योग्य हैं जैसे कि उनकी मूल प्रकृति क्या है *

🍁देवी अपराजिता के पूजनारम्भ तब से हुआ जब देवासुर संग्राम के दौरान नवदुर्गाओं ने जब दानवों के संपूर्ण वंश का नाश कर दिया तब माँ दुर्गा अपनी मूल पीठ शक्तियों में से अपनी आदि शक्ति अपराजिता को पूजने के लिए शमी की घास लेकर हिमालय में अन्तरध्यान हुईं

🔥क्रमशः बाद में आर्यावर्त के राजाओं ने विजय पर्व के रूप में विजय दशमी की स्थापना की। जो कि नवरात्रों के बाद प्रचलन में आई। स्मरण रहे कि उस वक्त की विजय दशमी मूलतः देवताओं द्वारा दानवों पर विजय प्राप्त के उपलक्ष्य में थी। स्वभाविक रूप से नवरात्र के दशवें दिन ही विजय दशमी मनाने की परंपरा चली। इसके पश्चात पुनः जब त्रेता युग में रावण के अत्याचारों से पृथ्वी एवं देव-दानव सभी त्रस्त हुए तो पुनः पुरुषोत्तम राम द्वारा दशहरे के दिन रावण का अंत किया गया जो एक बार पुनः विजयादशमी के रूप सामने आया और इसके साथ ही एक सोपान और जुड़ गया दशमी के साथ

🔶अगर यह कहा जाये कि विजय दशमी और देवी अपराजिता का सम्बन्ध बहुत हद तक क्षत्रिय राजाओं के साथ ज्यादा गहरा और अनुकूल है तो संभवतः कोई अतिश्योक्ति नहीं होगी किन्तु इसे किसी पूर्वधारणा की तरह नहीं स्वीकार करना चाहिए कि अपराजिता क्षत्रियों की देवी हैं और अन्य वर्ण के लोग इनकी साधना-आराधना नहीं कर सकते ।बहुत से स्थलों में देवी अपराजिता के सम्बन्ध में विभिन्न कथाएं और विधियां मिल जाती हैं लेकिन उनमे मूल भेद बहुत परिलक्षित होते हैं

🔸अस्तु उनका साधन करने से पूर्व किसी जानकार व्यक्ति से सलाह अवश्य ही कर लेनी चाहिए जिससे अशुद्धिओं और गलतियों से कुछ हद तक छुटकारा पाया जा सके हालाँकि शत प्रतिशत शुद्धता ला पाना सर्वसाधारण के वश की बात नहीं हैं किन्तु अल्प अशुद्धियाँ सफलता के मापदंडों को बढ़ा ही देती हैं साथ ही भावयुक्त साधना भी अशुद्धिओं को तिरस्कृत कर देती है जिससे अधिक अच्छे परिणाम मिल ही जाते हैं -!देवी अपराजिताशक्ति की नौ पीठ शक्तियों में से एक हैं जिनका क्रम निम्नप्रकार है एवं जया और विजया से सम्बंधित बहुत सी कथाएं भीप्रचलित हैं जो देवी पार्वती की बहुत ही अभिन्न सखियों के रूप में जानी जाती हैं
🔹 शक्ति की बहुत ही संहारकारी शक्ति है अपराजिता जो कभी अपराजित नहीं हो सकती और ना ही अपने साधकों को कभी पराजय का मुख देखने देती है – विषम परिस्थिति में जब सभी रास्ते बंद हों उस स्थिति में भी हंसी-खेल में अपने साधक को बचा ले जाना बहुत मामूली बात है महामाया अपराजिता के लिए

🌻अपराजिता की साधना के सम्बन्ध में” धर्मसिन्धु “जो वर्णनहै वह निम्न प्रकार है :-धर्मसिंधु में अपराजिता की पूजन की विधि संक्षेप में इस प्रकार है‌ :-“अपराह्न में गाँव के उत्तर पूर्व जाना चाहिए, एक स्वच्छ स्थल पर गोबर से लीप देना चाहिए, चंदन से आठ कोणों का एक चित्र खींच देना चाहिए उसके पश्चात संकल्प करना चहिए :”मम सकुटुम्बस्य क्षेमसिद्ध्‌यर्थमपराजितापूजनं करिष्ये

🔸राजा के लिए विहित संकल्प अग्र प्रकार है :” मम सकुटुम्बस्य यात्रायां *विजयसिद्ध्‌यर्थमपराजितापूजनं करिष्ये”इसके उपरांत उस चित्र (आकृति) के बीच में अपराजिता का आवाहन करना चाहिए और इसी प्रकार उसके दाहिने एवं बायें जया एवं विजया का आवाहन करना चहिए और ‘साथ ही क्रियाशक्तिको नमस्कार’ एवं ‘उमा को नमस्कार’ कहना चाहिए।इसके उपरांत :”अपराजितायै नम:,जयायै नम:,विजयायै नम:, मंत्रों के साथ अपराजिता, जया, विजया की पूजा16 उपचारों के साथ करनी चाहिए और यह प्रार्थना करनी चाहिए, ‘हे देवी, यथाशक्ति जो पूजा मैंने अपनी रक्षा के लिए की है, उसे स्वीकर कर आप अपने स्थान को गमन करें जिससेकि मैं अगली बार पुनः आपका आवाहन और पूजन वंदन कर सकूँ

🌹राजा के लिए इसमें कुछ अंतर है।राजा को विजय के लिए ऐसी प्रार्थना करनी चाहिए :”वह अपाराजिता जिसने कंठहार पहन रखा है, जिसने चमकदार सोने की मेखला (करधनी) पहन रखी है, जो अच्छा करने की इच्छारखती है, मुझे विजय दे”इसके उपरांत उसे उपर्युक्त प्रार्थना करके विसर्जन करनाचाहिए। तब सबको गाँव के बाहर उत्तर पूर्व में उगे शमी वृक्ष की ओर जाना चाहिए और उसकी पूजा करनी चाहिए।शमी की पूजा के पूर्व या या उपरांत लोगों को सीमोल्लंघन करना चाहिए

🌟कुछ लोगों के मत से विजयादशमी के अवसर पर रामऔर सीता की पूजा करनी चाहिए, क्योंकि उसी दिन राम ने लंका पर विजय प्राप्त की थी। राजा के द्वारा की जाने वाली पूजाका विस्तार से वर्णन हेमाद्रि तिथितत्त्व में वर्णित है

💥निर्णय सिंधु एवं धर्मसिंधु में शमी पूजन के कुछ विस्तार मिलते हैं।यदि शमी वृक्ष ना हो तो अश्मंतक वृक्ष की पूजा की जानी चाहिए

⭐अस्तु मेरे अपने हिसाब से देवी अपराजिता का पूजन शक्ति क्रम में ही किया जाना चाहिए ठीक जैसे अन्य शक्ति साधनाएं संपन्न की जाती हैं -!प्रथम गुरु पूजन ,द्वितीय गणपति पूजन ,भैरव पूजन , देवी पूजनअपनी सुविधानुसार पंचोपचार,षोडशोपचार इत्यादि से पूजन संपन्न करें मन्त्र जप – स्तोत्र जप आदि संपन्न करें और अंत में होम विधि संपन्न करें

🔷मंत्रों के सम्बन्ध में बहुधा भ्रम की स्थिति रहती है क्योंकि यदि आपने थोड़ा सा भी अध्ययन और खोज आदि पूर्व में की हैं तो उस स्थिति में बहुत से मंत्र ऐसे होते हैं जो आपकी जानकारी से बाहर के होते हैं

🔶अर्थात कई बार उनके बीज भिन्न हो सकते हैं और कई बार मंत्र विन्यास भिन्न हो सकता है तो इस दशा में सीमित ज्ञान आपको भ्रमित कर देता है – अस्तु सभी मित्रों को मेरी एक ही सलाह है कि शक्ति मंत्रों में यदि “ह्रीं,क्लीं,क्रीं, ऐं,श्रीँ आदि आते हैं तो उन मंत्रों को भेदात्मक दृष्टि से ना देखें क्योंकि एक परम आद्या शक्ति के तीन भेद भक्तों के हितार्थ बने जिन्हे त्रिशक्ति के नाम से भी जाना जाता है ( महाकाली-महालक्ष्मी-महासरस्वती) अन्य शक्ति भेद अथवा क्रम इन्ही तीन मूलों से निःसृत हैं अस्तु समस्त मन्त्र आदि इन्ही कुछ मूल बीजों के आस-पास घूमते हैं इसके अतिरिक्त इस बात पर मंत्र विन्यास निर्भर करता है कि जिस भी मंत्र वेत्ता ने उस मंत्र का निर्माण किया होगा उस समयवास्तव में उनका दृष्टिकोण और आवश्यकता क्या रही होगी

🔹हालंकि यह सब बातें तो बहुत दूर की और लम्बी सोच की हैं अस्तु ज्यादा ना भटकते हुए बस इतना ही कहूँगा कि यदि कभी भी मंत्रों का संसार समझ में ना आये तो सबसे आसान उपाय है कि उस देवता या देवी के गायत्री मंत्र का प्रयोग करें

🔸ॐ सर्वविजयेश्वरी विद्महे महाशक्तयै धीमहि तन्नो: अपराजितायै प्रचोदयात

🔥अपनी सामर्थ्यानुसार उपरोक्त गायत्री का जप करें और देवी अपराजिता का वरदहस्त प्राप्त करें – देवी आपको सदा अजेय और संपन्न रखें यही मेरी कामना है
🌻प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्य परम पूज्य गुरुदेव पंडित हृदय रंजन शर्मा अध्यक्ष श्री गुरु ज्योतिष शोध संस्थान गुरू रत्न भण्डार पुरानी कोतवाली सराफा बाजार अलीगढ़ यूपी व्हाट्सएप नंबर-9756402981,7500048250

Related posts

Kumbh Mela 2021: हरिद्वार में कुंभ मेले की तैयारियों का ब्लूप्रिंट तैयार, CM रावत ने की बैठक

dnewsnetwork

मयूरी शाखा द्वारा श्राद्धपक्ष मे दूध जलेबी का किया वितरण

dnewsnetwork

आइए जानिए, कैसे करें श्री गणपति विसर्जन

dnewsnetwork